Friday, January 13, 2012

गूगल, फेसबुक पर भारत में कानूनी शिकंजा


मनोज जैसवाल : भारत सरकार ने दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनियों गूगल, फेसबुक और याहू को देश में साफ सुथरा करने की मुहिम तेज कर दी है. अश्लील सामग्री के मामले में 21 इंटरनेट कंपनियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की मंजूरी दे दी है.


 सरकार ने दिल्ली की एक अदालत से कहा कि 21 सोशल वेबसाइट के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं. इसमें याहू और माइक्रोसॉफ्ट जैसी वेबसाइटों पर आरोप लगाए गए हैं कि वह भारत के अंदर राष्ट्रीय एकता को खंडित करने और अलग अलग वर्गों में बंटवारा करने की कोशिश कर रहा है. मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सुदेश कुमार की अदालत में सरकार ने बयान देकर कहा, "पाबंदी लगाने वाले अधिकारी ने निजी तौर पर सभी दस्तावेजों और रिकॉर्डों की जांच की है. वह इस बात से संतुष्ट है कि आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153-ए, 153-बी और 295-ए के तहत कार्रवाई की जा सके.

 अदालत ने भारत के विदेश मंत्रालय को पिछले महीने निर्देश दिया था कि वह दस से ज्यादा विदेशी कंपनियों को समन पहुंचाए. समन 23 दिसंबर को जारी तो किए गए लेकिन उन पर तामील नहीं हुई. इसके बाद ही सरकार ने अपना पक्ष अदालत के सामने रखा है. अदालत ने 23 दिसंबर को 21 इंटरनेट वेबसाइटों को समन जारी किया था, जिन पर आपराधिक और युवाओं के बीच अश्लील सामग्री पहुंचाने के आरोप लगाए गए हैं.


 इसके बाद सरकार ने जो रिपोर्ट तैयार की है, उसमें कहा गया है कि इन वेबसाइटों की सामग्री भड़काऊ हैं और राष्ट्रीय अखंडता पर हमला है. सरकार ने बताया है कि इस सिलसिले में गूगल, फेसबुक, याहू और माइक्रोसॉफ्ट के प्रतिनिधियों के साथ चार बार बैठक की जा चुकी है. इसमें कहा गया, "उन्हें बता दिया गया है कि उनकी वेबसाइट और सर्च इंजन पर आपत्तिजनक चीजें मिल रही हैं. उन्हें इन आपत्तिजनक चीजों को दिखा भी दिया गया और कहा गया कि अवमानना वाली चीजें वे जनहित और राष्ट्रीय एकता और अखंडता को ध्यान में रखते हुए अपनी वेबसाइट से हटा दें.


 अब इस मामले पर अदालत ने सुनवाई के लिए अगली तारीख 13 मार्च को रखी है और आरोपियों से कहा है कि उन्हें निजी तौर पर हाजिर होना होगा. मजिस्ट्रेट ने कहा, "आरोपियों को सिर्फ आज की कार्रवाई से छूट मिली हुई थी. अगली कार्रवाई में उन्हें अदालत में हाजिर होना होगा.


 भारत के पत्रकार विनय राय द्वारा दायर इस केस में फेसबुक और गूगल जैसी कंपनियों ने अदालत से गुजारिश की कि इस मामले को मुलतवी कर दिया जाए क्योंकि इससे जुड़ा मामला दिल्ली हाई कोर्ट में भी चल रहा है. इस मामले में कुछ कंपनियों ने ऊपरी अदालत जाने का फैसला किया है.AP

12 comments:

  1. Replies
    1. पंडित जी पोस्ट पर राय के लिए धन्यबाद.

      Delete
  2. उपयोगी जानकारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोहित जी पोस्ट पर राय के लिए धन्यबाद.

      Delete
    2. उपयोगी जानकारी आपका आभार

      Delete
    3. Babu Ram ji पोस्ट पर राय के लिए धन्यबाद.

      Delete
  3. बड़ा मुश्किल है लेकिन इस तरह कुछ भी फ़िल्टर करने की ज़िद करना.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय काजल कुमार जी,आप अपने मन की बात माने।

      Delete
  4. सुन्दर जानकारी साधुबाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. पोस्ट पर राय के लिए धन्यबाद.

      Delete
  5. Replies
    1. मोनू जोशी जी पोस्ट पर राय के लिए धन्यबाद.

      Delete

Site Search